Image default
palpalindai

अनिता सिंहः भेजी थी जो एक दिन तुमने…

भेजी थी जो एक दिन तुमने…
तुम्हारी वो आवाज….!!
मेरे खुश रहने का है
वो राज…!!
होती है जब सुबह..
बनकर मधुर झंकार
जगाती है मुझे…!!
रातों को ले आगोश में अपनी
मीठी नींद
सुलाती है मुझे…!!
रहते तो हो तुम चुप…!
फिर भी ये सब कुछ
बताती है मुझे…!!
जी उठती हूं
उस पल से मैं…
जब से आवाज तेरी
समा गई रूह में मेरी…!!
ये तेरी आवाज ही तो है
बांसुरी तेरी…!!
…. मेरे कान्हा
…. मेरे बेस्टी

Related posts

विश्लेषण: सेक्स वर्करों की मां के समान गंगूबाई की कहानी….

BollywoodBazarGuide

इस साल दो फिल्मों में नजर आएंगे अभिषेक बच्चन!

BollywoodBazarGuide

ऋतिक रोशन: मैं जिंदगी और सिनेमा का एक स्टूडेंट हूं!

BollywoodBazarGuide

Leave a Comment

Subscribe here to get latest daily updates...