Image default
Uncategorized

Neelkanth Bairagi Bam Bam Bhole….

हर ओर हर हर महादेव… मंशाव्रत का संकल्प लेंगे श्रद्धालु!
श्रीशैलशृंगे विबुधातिसंगे
तुलाद्रितुंगेऽपि मुदा वसन्तम्।
तमर्जुनं मल्लिकपूर्वमेकं
नमामि संसारसमुद्रसेतुम्।।

अर्थात…. अन्य पर्वतों से ऊंचा, जिसमें देवताओं का समागम होता रहता है, ऐसे श्री शैलश्रृंग में जो प्रसन्नतापूर्वक निवास करते हैं। जो संसार सागर को पार करने के लिए सेतु तुल्य हैं, उन्हीं श्रीमल्लिकार्जुन भगवान् को मैं नमस्कार करता हूँ।

बांसवाड़ा (WhatsApp- 8302755688)। श्रावण माह के धार्मिक पवित्र वातावरण में हर ओर हर हर महादेव की गुंज है। वागड़ में लोकप्रिय मंशाव्रत की तैयारियां चल रही है तथा श्रद्धालु मंशाव्रत का संकल्प लेंगे।
इधर बांसवाड़ा के विभिन्न शिवालयों- वनेश्वर, भगोरेश्वर, मदारेश्वर, त्रयंबकेश्वर, निचला घंटाला, भीमेश्वर, अलोपेश्वर, बेणेश्वर, घोटिया अम्बा, अरथुना के मांडलिक महादेव, तलवाड़ा गोकर्णेश्वर, नीलकंठ, सोमेश्वर आदि शिवालयों में श्रद्धालुओं का ताँता लगा हुआ है।

इन शिव मंदिरों में प्रतिदिन जलाभिषेक, पूजा-आरती और श्रंगार के विविध आयोजन हो रहे हैं।
अनेक श्रद्धालु श्रावण मास में श्रीरामचरितमानस, श्रीमद भागवत, श्री शिव पुराण, श्री देवी भागवत आदि का यथाश्रद्धा मास पारायण कर रहे हैं। मंशाव्रत पूजा का सामान- चांदी का नाग, श्रीफल, लाल-सफेद वस्त्र, यज्ञोपवित, देवी पार्वती के श्रंगार का सामान आदि खरीदनेवाले श्रद्धालुओं की बाजार में चहल पहल है।

शिवभक्त मंशाव्रत का संकल्प लेंगे। प्रातःकाल पवित्र स्नान के बाद सर्व प्रथम भोलेनाथ की पूजा अर्चना होगी और जलाभिषेक करेंगे, उसके बाद ही जल ग्रहण करेंगे। श्रीगणेश की पूजा होगी तो माता पार्वती की पूजा के बाद श्रंगार का सामान देवी को अर्पित करेंगे।
शिवभक्त एक श्रीफल- नारियल भोलेनाथ को अर्पित करते हैं तो एक नारियल का प्रसाद वितरित करते हैं।
इस दिन कुछ भक्त एक वक्त का भोजन ग्रहण करते हैं तो कुछ भक्त केवल दूध और लड्डू ही ग्रहण करते हैं।

भोलेनाथ के प्रसाद के रूप में लड्डू कुछ इस तरह से तैयार होंगे-
* गेंहू का मोटा आटा लेकर बड़ी छलनी में छान लेते हैं।
* गुनगुने गरम पानी और घी के साथ इसे बांधते हैं।
* बड़े आकार की बाटियां बना कर इन्हें सेंकते हैं,आजकल बाटी कुकर में यह जल्दी हो जाता है।
* इन बाटियों को मसल कर भाप निकलने देते हैं फिर मिक्सी में पीस कर छान लेते हैं।
* दूसरी ओर घी गर्म करते हैं और इसमें देसी गुड़ अच्छे से मिक्स कर लेते हैं।
* अब दोनों को एक परात में अच्छे से मिला लेते हैं और अपनी मनपसंद के आकार के लड्डू बना लेते हैं।
* कई लोग इसमें बेहतर स्वाद के लिए सौंफ, नारियल की कतरन आदि भी मिलाते हैं तो कई लोग शक्कर के लड्डू भी बनाते हैं जिसमें इलाइची, बादाम जैसे ड्राय फ्रूट मिलाते हैं।

Related posts

थाती जैसी संस्कारों से सजी सामग्री पर श्रेष्ठ सांस्कृतिक फिल्में बन सकती हैं!

BollywoodBazarGuide

‘सतरंगी राजस्थान’ के बाद अब ‘बन्नी सा’ गीत की लांचिंग!

BollywoodBazarGuide

Shweta Rohira: This year my Ganpati will come on a moon!

BollywoodBazarGuide

Leave a Comment